प्रतिक्रियासंपर्क

पावर

हिन्दी
Image: 
  1. पावर किस प्रकार से कार्य करता है ?
  2. “पावर” का पॉवरफुल परफॉरमेंस
  3. लाभ
  4. विशेषज्ञों द्वारा प्रमाणित
  5. पावर के बारे में अक्सर पूछे जानेवाले सवाल
  6. पावर टिप्‍स: सुरक्षित ड्राइविंग, अनुरक्षण, ईंधन बचत

1. “पावर” किस प्रकार से कार्य करता है?

कोई जब नया वाहन खरीदता है तो इसके फ्यूल – पोर्ट इंजेक्‍टर, इनटेक वाल्‍व और कम्‍बशन चेम्‍बर में कोई जमाव नहीं होता है। कुछ समय बाद इंजिन के हिस्‍सों में इसका जमाव शुरू होता है| आइये देखते हैं किस प्रकार से ये जमाव आपके वाहन के सुचारू कार्यों को प्रभावित कर सकता है।।

  • पोर्ट फ्यूल इंजेक्‍टर्स में पोर्ट फ्यूल इंजेक्‍टर्स जमा होना अच्‍छी बात नहीं है, इससे कार की इग्निशन खराब होता है, खराब आइडलिंग, धीमी एक्सिलरेशन एवं अधिक उत्‍सर्जन होता है।
  • इंटेक वाल्‍व और पोर्ट : यदि कोई बिना एडिटिव्‍स के ईंधन का प्रयोग करता है तो सख्‍त और छिद्रपूर्ण जमाव ईंधन के भागों को स्‍पंज की तरह सोख लेता है। इससे ईंधन – हवा का गलत मिश्रण होता है, जो वाहन के निष्‍पादन को प्रभावित करता है और एग्जॉस्‍ट गैस के को- कंटेंटों को भी प्रभावित करता है। कुछ मामलों में ऐसा हो सकता है कि वाल्‍व सीट पर जमाव वाल्‍व को पूरी तरह से बंद न होने दे तो इंजिन को बुरी तरह से प्रभावित कर सकता है। इंटेक वाल्‍वों पर जमाव हवा के बहाव को बाधित करता है जिससे ईंधन की मितव्ययता,पावर आउटपुट और ड्राइविंग सुविधा को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करता है
  • कम्‍बशन चेम्‍बर में जमाव होने से प्रदूषण का स्‍तर बढ़ता है, ऑक्‍टेन की आवश्‍यकता बढ़ाता है, और ल्‍युब्रिकेंट की खपत अधिक होती है। वास्‍तव में, कम्‍बशन चेम्‍बर में जमाव होने से ‘खटखटाने की आवाज’ होती है, शक्ति कम होती है और एक्सिलरेशन कम होता है । अति आधुनिक इंजिनों में ‘एंटी लॉक सेन्‍सर’होते हैं जो कंप्रेशन अनुपात को आसानी से व्‍यवस्थित कर लेते हैं। लेकिन हमारे देश में नई पीढ़ी की कारों में यह विशेषता नहीं है। तथापि, एडिटाइज्ड ईंधन के आने से यह हानि कम होती है ।

2. “पावर” का पॉवरफुल परफॉरमेंस

Push for more with power - Petrol with Energy Boosters. Great Mileage, Great Acceleration, Greater Performance.विशेष रूप से आयात किए गए एडिटिव्‍स से मिश्रित “पावर” न केवल विद्यमान जमाव को मिटाता है, बल्कि नए जमाव को भी रोकता है। इससे सुनिश्चित होता है कि वाहन हमेशा ही जमाव मुक्‍त रहेगा जिससे इंजिन का निष्‍पादन हमेशा उत्‍कृष्‍ट बना रहेगा। तथापि, एक या दो बार टैंक को “पावर” से भरने के बाद ही इसके लाभ दिखाई देते हैं। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि वर्तमान जमाव को साफ कर इसे पूरी तरह से निकालने में कुछ समय लगता है। लेकिन एक बात तो निश्चित है कि “पावर” के निरंतर प्रयोग से आपके वाहन का निष्‍पादन अवश्‍य सुधरेगा। “पावर” इस बात को सुनिश्चित करता है कि इंजिन आजीवन उसी प्रकार से कार्य करेगा जिस तरह करने के लिए उसे बताया गया है। “पावर” यह भी सु‍निश्चित करता है कि हजारों किलोमीटर तक सेवा देने के पश्‍चात भी संपूर्ण इंटेक सिस्‍टम स्‍वच्‍छ रहे।

कारब्‍युरेटेड इंजिन के लिए भी: भले ही “पावर” विशेष रूप से नई पीढ़ी के मल्‍टी पोर्ट फ्युल इंजेक्‍शन इंजिनों के लिए लाभदायक हो, लेकिन यह कारब्‍युरेटेड इंजिनों में भी ये जमाव को कम करने में सहायता करता है। ऐसे में, भले ही आपके पास पुरानी कार हो , पावर आपको सर्वोत्‍तम सेवा प्रदान करेगा ।

3.. लाभ

  • इंटेक वाल्‍व और ईंधन इंजेक्‍टर्स के जमाव को हटाता है
  • ऑक्‍टेन आवश्‍यकता बढ़ोतरी को नियंत्रित करता है (ओआरआई)
  • इंजिन में इष्‍टतम ईंधन प्रज्‍वलन सुनिश्‍चत करता है, जिससे ईधन की मितव्‍ययता बढ़ती है
  • आपकी ड्राइविंग सुविधा को सुधारता है
  • आपको अधिक पावर और एक्सिलरेशन देता है
  • एक्‍सॉस्‍ट उत्‍सर्जन कम करता है
  • इंटेक वाल्‍व की चिपचिपाहट से बचाता है
  • इंजिन की खटखटाहट कम करता है
  • 4. विशेषज्ञों द्वारा प्रमाणित :

    एचपीसीएल द्वारा लॉन्‍च किए गए नई पीढी के पेट्रोल, पावर को जर्मनी की प्रसिद्ध अंतर्राष्‍ट्रीय प्रयोगशाला द्वारा परीक्षण किया गया था और इसके परिणामों ने इसे उत्‍कृष्‍ट पेट्रोल के रूप में स्‍थापित किया है। यह सिद्ध हो चुका है कि पावर इंटेक वाल्‍व जमाव को कम करता है, प्रयोगशाला द्वारा परीक्षित यह अब तक का सर्वोत्‍कृष्‍ट पेट्रोल ब्रांड है| निसंदेह, पावर के प्रयोग से इंजिन लंबे समय तक स्‍वच्‍छ और स्‍वस्‍थ रहता है जिससे इसका निष्‍पादन, उत्‍कृष्‍ट रहता है। इसके अलावा, अधिक माइलेज, अधिक पावर और एक्सिलरेशन, स्‍वच्‍छ उत्‍सर्जन और इंजिन की अधिक आयु इसके साथ चले आते हैं ।

    5. पावर के बारे में अक्सर पूछे जानेवाले सवाल:

    1. “पावर” किस प्रकार से कार्य करता है?
      कुछ समय बाद, आपके इंजन के भाग में, जमाव शुरू हो जाता है। यह जमाव इंजिन के कार्य को प्रभावित करता है जिससे उसका निष्‍पादन कम होता है । पावर में एडिटिव्‍स होते हैं जो न केवल वर्तमान जमाव को हटाते हैं बल्कि नए जमाव को भी बनने से रोकता है। इससे सुनिश्‍चत होता है कि वाहन का इंजिन हमेशा जमाव से मुक्‍त है और इंजिन निरंतर उत्‍कृष्‍ट कार्य करता है ।
    2. मेरे इंजिन में पावर का असर देखने में कितना समय लगेगा?
      पावर में जो एडिटिव्‍स होते है वह आपके इंजिन को प्रयोग के समय स्‍वच्‍छ रखते हैं, 2 -3 टैंक भराई के बाद आप इसका प्रभाव देख सकते है|
    3. यदि मेरे टैंक में पावर है और मैं अपने टैंक में नियमित रूप से अनलेडेड पेट्रोल भरता हूँ, तो इससे कोई समस्‍या तो नहीं होगी? यह मेरे इंजिन को कैसे प्रभावित करेगा ?
      अनलेडेड पेट्रोल और पावर के मिश्रण से इंजिन को कोई हानि नहीं होगी। कृपया इस बात को याद रखें कि पावर भी एडिटिव्‍स के साथ अनलेडेड पेट्रोल है। मिश्रण के साथ आपके कार का इंजिन सामान्‍य रूप से कार्य करेगा।
    4. क्‍या पावर मेरी नई कार पर असर करेगा ?
      नई कार के इंजिन में बिलकुल जमाव नहीं होता है। इसलिए इसका निष्‍पादन इष्‍टतम होता है। अत: पावर के प्रयोग से आपके नए इंजिन में कोई विशेष असर नहीं दिखाई देगा। ऐसे में पावर इस बात को सुनिश्चित करता है कि आपके इंजिन में जमाव न हो। इससे आपकी कार का निष्‍पादन बरकरार रहता है। वास्‍तव में, सभी नई कारों के मैन्‍युअल पावर जैसे एडिटिव युक्‍त पेट्रोल के उपयोग का सुझाव देता है |
    5. ऐसा सुना जाता है कि पावर में एडिटिव से मेरे इंजिन में समस्‍या हो सकती है। क्‍या यह सही है ?
      पावर में अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर परीक्षित एवं रासायनिक रूप से सुरक्षित एवं अनुमोदित एडिटिव है। पावर का नियमित उपयोग समय के साथ आपके इंजिन के हानिकारक जमाव को साफ कर देता है। तथापि, कुछ मामलों में, इंजिन के भागों में इन जमावों को साफ करते समय ईंधन के फिल्‍टर में फंस सकता है जिससे इंजिन का कार्य कम हो सकता है। यदि आपको ऐसा कुछ दिखाई देता है तो आपको सिर्फ इतना करना है आप अपनी कार की सर्विसिंग करवा लें, इससे आपका इंजिन उत्‍कृष्‍ट कार्य करेगा|
    6. क्‍या पावर से ईंधन का खर्च बहुत अधिक बढ़ेगा ?
      पावर का मूल्‍य अनलेडेड पेट्रोल से थोड़ा ज्‍यादा है। जब आप टैंक फुल में फर्क को देखते हैं तो आपको इसके मूल्‍य में थोड़ा ही फर्क दिखाई देगा। तो इसके अलावा, पावर जब आपके इंजिन पर अपना काम शुरू कर देता है तो अधिक माइलेज से आपके पैसे की बचत होती है। ऐसे में थोड़ा सा अधिक खर्च आपको महंगा नहीं पड़ता है।
    7. क्या मेरे वाहन के लिए उच्‍चतर ऑक्‍टेन ईंधन, पावर अधिक फायदेमंद है?
      जब आपके इंजिन में जमाव हो जाता है तो आपके इंजिन में ऑक्‍टेन की आवश्‍यकता बढ़ जाती है। ऐसे में अधिक ऑक्‍टेन ईंधन आपके इंजिन के कार्य को बेहतर कर सकता है। तथापि, पावर का प्रयोग आपके इंजिन के जमाव को साफ कर देता है और जिससे आपको अधिक महंगे उच्‍च- ऑक्‍टेन पेट्रोल की ज़़रूरत नही होती है ।
    8. इस बात का क्‍या प्रमाण है कि पावर वास्‍तव में फायदेमंद है ?
      पावर को जर्मन की अंतर्राष्‍ट्रीय प्रयोगशाला ने परीक्षण किया है। यह सिद्ध हुआ है कि पावर से इंटेक वाल्‍व जमाव कम करता है, प्रयोगशाला द्वारा परीक्षित उत्‍कृष्‍ट निष्‍पादन पेट्रोल ब्रांड के रूप में सन्मानित किया गया है। पावर के एडिटिव्‍स का बजाज ऑटो और टीवीएस मोटर्स के प्रयोगशाला में भी परीक्षण किया गया है। इन दोनों ने इन एडिटिव्‍स के लाभ को प्रमाणित किया और उनके सभी वाहनों में प्रयोग का सुझाव दिया।
    9. क्‍या पावर केवल कारों के लिए हैं ?
      बिल्‍कुल नहीं । पावर वही कार्य करता है जो वह 2 पहिया इंजिनों में करता है और उच्‍चतम निष्‍पादन देता है ।
    10. पावर कहॉं मिलता है ?
      पावर देश भर के 400 बाज़ारों के 1825 से अधिक क्‍लब एचपी रिटेल आउटलेटों में उपलब्‍ध है ।

    6. पावर टिप्‍स

    सुरक्षित ड्राइविंग

    1. एअरबैग के करीब न बैठें, टक्‍कर होने पर यह आपके चेहरे को लग सकता है । सामने बैठें है तो नुकीली वस्‍तु को हाथ में न रखें- इससे एअरबैग पंक्‍चर हो सकता है
    2. सामने की सीट पर बच्‍चों को पीछे की ओर न बिठाएं, जोरदार ब्रेक या एक्सिलरेशन से वे जख्‍मी हो सकते हैं ।
    3. गाड़ी चल रही हो तो अपनी सीट या स्टियरिंग को व्‍यवस्थित करने का प्रयास न करें। ऐसा करना खतरनाक हो सकता है विशेषत: जब कार किसी गड्डे या बम्‍प से गुज़र रही हो। सीट या स्टियरिंग को ठीक करते – करते जोरदार धक्‍के से दुर्घटना हो सकती है।
    4. ब्‍लाइंड टर्न पर ओवरटेक न करें, कोई भी अनहोनी घटना हो सकती है। बड़े ट्रक या वाहन को ओवरटेक करते समय सावधानी बरतें।
    5. यात्रा शुरू करते समय दोनो विंडशील्‍ड को अच्‍छी तरह से पोंछ लें। विंडशील्‍ड के पानी को अखबार के कागज से पोंछे।
    6. गाड़ी चलाते समय मोबाइल फोन पर बात न करें- हैंड्स फ्री उपकरण भी घातक हो सकता है ।
    7. यदि आपके कार हैचबैक है तो छत की बूट पर भार न रखें। आपको ओवरटेक करना है, पीछे मुड़ना है या पार्क करना है तो हर चीज़ साफ दिखाई देनी चाहिए ।
    8. ड्राइवर की लंबाई और अपने अंदोजे से रियर व्‍यू शीशे व्‍यवस्थित कर लें। इसके अलावा, सड़क को ग्‍लास एरिया में लाने के लिए, कुछ अंदाजा लगाने के लिए कार का सी पिलर भी होना चाहिए
    9. चौराहे पार करते समय गति धीमी करें, आर पार सड़क का यातायात सामने आ सकता है ।
    10. टायर का प्रेशर संस्‍तुत आंकड़ों के अनुसार हो। कम या अधिक प्रेशर से टायर फट सकता है या गलत हैंडलिंग करवा सकता है। टायर के सही प्रेशर का पता लगाने के लिए कार ओनर्स मैन्‍युअल का संदर्भ लें।

    अनुरक्षण

    1. इंजिन ऑयल और ऑयल फिल्‍टर बदलना निहायत जरूरी है; हमेशा निर्माता द्वारा संस्‍तुत ऑयल की श्रेणी का प्रयोग करें। ऑयल बदलते समय ऑयल फिल्‍टर को भी बदलें, वरना इंजिन में पुराना ऑयल चलता रहेगा
    2. रेडिएटर कूलंट को नियमित रूप से बदलते रहें और सही कूलंट का इस्‍तेमाल करें, कुछ कैन से डाले जा सकते हैं और कुछ पानी की नियत मात्रा मिलाकर डालने की ज़रूरत है। पानी को मैक्‍स सीमा से अधिक न भरें, इससे वॉटर जैकेट दबाव बढ़ सकता है और हेड गास्‍केट क्षतिग्रस्‍त हो सकता है। रेडिएटर और इंजिन को जोड़नेवाले रबर होज़ में रिसाव की जॉंच करें। ब्रांडेड रेडिएटर फ्लश फ्लुइड का भी प्रयोग फायदेमंद साबित होगा। धुल को साफ करने के लिए रे‍डिएटर फिन को प्रेशर वॉश करें ।
    3. आपके ब्रेक मूल स्थिति में होने चाहिए। यदि ब्रेक कार के डेशबोर्ड में चमकते हैं तो हूड के नीचे रेसावेयर में ब्रेक फ्लुइड की जॉंच करें। यदि कम है तो हर पहिये के पीछे लीक मार्क की जॉंच करें। जॉंच लें कि पार्किंग ब्रेक चालू स्थिति में है, यदि नहीं तो तुरंत ठीक करवाएं ।
    4. केबिन को स्‍वच्‍छ रखें। सबसे अच्‍छा विकल्‍प है, प्राधिकृत व्‍यक्ति से कार के इंटिरियर्स को वैक्‍यूम से साफ, वैक्‍स करवाएं। इस बात को सुनिश्‍चत करें कि केबिन की बत्तियां, सीट नियंत्रण ओर डैश नियंत्रण पूरी तरह से काम कर रहे हैं।
    5. दरवाजे की हिंजस रबर डोर गास्‍केट के नीचे फ्लश चैनल में जहॉं वाइपर मोटर लगी है में देखें कहीं जंग तो नहीं लगा है। यदि दरारें छेद का रूप ले चुकीं हैं तो किसी प्राधिकृत सर्विस स्‍टेशन में इसे भरवाकर पेंट करवा लें।
    6. इंजिन बे को स्‍वच्‍छ रखें, विभिन्‍न सिस्‍टमों, वैक्‍यूम पाइपों, फैन बेल्‍ट इत्‍यादि की वायरिंग जॉंच लें।
    7. सस्पेन्‍शन की आवाज़ों पर विशेष ध्‍यान दें – यदि अजीबो गरीब आवाजें आ रही हैं घिसे हुए बुश और डैम्‍पर्स की जॉंच करें ।
    8. अपनी कार को किसी पेशेवर से पॉलिश करवाएं, और उन्‍हें कार के बॉडी शेल को पेंट करने का अनुरोध करें। महीने में एक बार कार की पॉलिशिंग से जंग लगने का खतरा कम हो जाता है।
    9. सभी पॉंच टायरों को बारी – बारी से बदलते रहें ताकि समान रूप से घिसें और रोटेशन पूर्ण होने के बाद व्‍हील्‍स को एलाइन करवाएं। ट्रेड की गहराई की नियमित रूप से जॉंच करवाएं।
    10. बैटरी को डिस्‍टील्‍ड वॉटर (नल का पानी नहीं) से नियमित रूप से टॉप अप करें। पुराने होने पर बैटरी सेल लाल हो जाते हैं। बैटरी पैक में बुलबुले उठने का अर्थ है कि बैटरी को बदलने की जरूरत है । बैटरी सामान्‍यत: दो या ढ़ाई साल तक चलती है और माइलेज पर निर्भर करती है।

    ईंधन की बचत :

    1. ट्रेफिक में हमेशा सही आरपीएम पर सही गियर में गाड़ी चलाएं। उच्‍च गियर में धीमी गति से गाड़ी चलाने से ईंधन की खपत बढ़ती है ।
    2. अचानक एक्सिलरेशन और ब्रेक लगाने से ईधन की खपत बढ़ सकती है। समान एक्सिलरेशन, सही गियर और ब्रेक परिवर्तन कार्यक्षमता को बढ़ाता है। अन्‍य वाहनों के बीच सुरक्षित अंतर बनाएं रखने से भी आप सही ढंग से ड्राइव कर सकते हैं।
    3. टायर में सही प्रेशर रखें – जो कार के दरवाजे पर, फ्यूल टैंक कैप पर या हूड के नीचे दिया गया हो। कम दबाव से हैंडलिंग आसान होती है लेकिन कार की पकड़ अच्‍छी होने के कारण ईंधन की कार्यक्षमता कम होती है । सामने और पिछले टायरों का प्रेशर अलग-अलग होता है ।
    4. मैन्‍युअल में निदिष्‍ट अनुसार इंजिन ऑयल नियमित रूप से बदलें। अच्‍छी तरह से ल्‍यूब्रिकेट किया गया इंजिन सुचारू रूप से चलता और ईंधन की कम खपत करता है ।
    5. प्रदूषण और मिलावटी ईंधन एअर और ईंधन के फिल्‍टर को नुकसान पहुँचा सकते हैं और ईधन की खपत को बढ़ा सकते हैं। नियमित सवि‍र्सिंग के साथ-साथ इन फिल्‍टरों पर भी नज़र रखें और इन्‍हें बाधित न होने दें ।
    6. एअर कंडीशन का प्रयोग बेहद सुविधाजनक है लेकिन ढ़लान पर इसका उपयोग कम कर दें क्‍योंकि इंजिन पर अधिक दबाव पड़ता है और यह और इससे ईंधन की खपत बढ़ती है ।
    7. शहर की तुलना में हाइवे पर कार चलाने से ईंधन की कम खपत होती है। लेकिन कार को उसकी क्षमता से अधिक सीमा में चलाने से ईंधन की कार्यक्षमता कम होती है । हाइवे पर गाड़ी चलाते समय सुरक्षित और स्थिर गति बनाए रखें । एक बार गति पकड़ने पर एक्सिरलरेटर पर हल्‍का सा दबाव भी पर्याप्‍त है। हाइवे पर स्थिर गति बनाए रखने से ईंधन की कार्यक्षमता बढ़ती है।
    8. कार में अधिक भार रखने और अधिक सवारियां बैठने से इसका निष्‍पादन प्रभावित होता है । कार को अपनी क्षमता से अधिक कार्य करना पड़ता है जिससे इसकी क्षमता बुरी तरह से प्रभावित होती है। सवारी और सामान की क्षमता के लिए अपने ओनर्स मैन्‍युअल का संदर्भ लें ।
    9. ईंधन की गुणवत्‍ता भी ईंधन की कार्यक्षमता को प्रभावित करती है। मिलावट से बचने के लिए एक ही फ्यूल स्‍टेशन से ईंधन भरवाएं। खराब ईंधन कार्बन जमाव को बढ़ाता है इंजिन में घर्षण पैदा करता है और ईंधन की कार्यक्षमता में उतार चढ़ाव होता है।
    10. अपनी कार के क्‍लच और ब्रेक पर ध्‍यान दें। क्‍लच चलाने से ईंधन की खपत बढ़़ती है और क्‍लच भी घिसता है। जैम ब्रेक के साथ कार चलाने से भी इंजिन पर अधिक दबाव पड़ता है और ईंधन की खपत प्रभावित होती है।